2-5 साल के बच्चें को Smartly Handle कैसे करें

2-5 साल के बच्चें को Smartly Handle कैसे करें

“2-5 साल के बच्चें को पढ़ाई के लिए कैसे तैयार करें” सीरीज के तहत भाग -1 “माता-पिता के जानने योग्य जरूरी बातें” शेयर किया गया. जिसमें  सभी माता पिता को शिक्षा के क्षेत्र “2 -5 बच्चें की नींव को मजबूत करने के लिए विषयों पर चर्चा की गयी.

इसी सीरीज के भाग-2 में “2-5 साल के बच्चें को Smartly Handle कैसे करें” में सभी माता पिता को सुझाव देने की कोशिश की गयी है. आशा है की इस आर्टिकल के माध्यम से माता पिता को अपने 2-5 साल के बच्चें बच्चें के विकास में सहायता मिलेगी। 

बच्चों को पढ़ाई (study) के लिए कैसे motivate करे

2-5 साल के बच्चें को कभी भी इस तरह से पढ़ाई करने के लिए न बोले जिससे उसे पढाई करने में दबाव (pressure) महसूस हो. जब 2-5 साल के बच्चें के पढाई करने का समय हो तो उसके साथ कुछ इस तरह के वाक्यों का प्रयोग करें :

1 . चलो, आओ हम अपने दिमाग (brain) को sharp बनाते है.

2.  चलो, आओ अपने brain  को intelligent  बनाते है.

3.  चलो, आओ अपने brain का lock, पढ़ाई की चाबी (study key) से open  करते है.

4.  चलो, आओ अब books के साथ खेलते है.

5. चलो, आओ आपकी सुन्दर (beautiful) books को देखते है कि इनमें क्या-क्या छुपा हुआ है.     

इस तरह के वाक्यों के प्रयोग से बच्चे को पढाई करने का दबाव महसूस नहीं होगा और वो पढ़ाई को enjoy करेंगा। इससे बच्चे के अंदर सीखने की भावना पैदा होगी।

बच्चे का study material खरीदते समय बच्चे को साथ रखें

जब भी माता पिता बच्चे का study material खरीदने बाजार जाये तो बच्चे को अवश्य ही अपने साथ लेकर जाएं। बच्चा अपना बैग, पेंसिल, अलग अलग तरह के colourful eraser, colouring book, colouring pencils/crayons देखेंगा तो वह बहुत ही खुश होगा और इन वस्तुओं का प्रयोग करने के लिए पढ़ाई की तरफ आकर्षित होगा।

बच्चे के लिए Educational Toys ख़रीदे 

बाजार में आजकल बच्चो के लिए कई तरह के  educational toys उपलब्ध है. जिनको 2-5 साल के बच्चें के  level के अनुसार हम खरीद सकते है.जैसे : Alphabet Blocks, Number blocks, Building Blocks, Animals, Birds, Vegetables, Fruits, toys for   developing motor Skills, gripping toys, shapes etc. इन toys के प्रयोग से बच्चें खेल-खेल में ही काफी कुछ सीख जाते है व उनमे रचनात्मकता (creativity) का विकास भी होता है.

Educational videos को दिखाने के लिए मोबाइल फ़ोन नहीं, TV/LED का प्रयोग करे 

आजकल सारा दिन बच्चे मोबाइल पर रहते है और गेम खेलते व  कार्टून देखते है जो उनकेलिए  फ़ायदेमंद नहीं है. बच्चे के लिए ज्यादा मोबाइल का प्रयोग करना उसके दिमाग शारीरिक विकास के लिए बहुत हानिकारक है. 

2-5 साल के बच्चें को Smartly Handle कैसे करें
Wrong Habit

बच्चे को Hindi, English Rhymes व educational videos को mobile पर नहीं,  TV/LED से connect कर दिखाए। इससे बड़ी screen पर देखने से उनकी आँखों पर बुरा प्रभाव नहीं पड़ेगा। व माता पिता को ये भी पूरी जानकारी रहेगी कि बच्चे क्या देख रहे है. इससे बच्चो को mobile देखने की आदत नहीं लगेगी, आजकल माता पिता बच्चो के मोबाइल प्रयोग की आदत से बहुत परेशान है. बच्चे, माता पिता की नजरो से बच कर, chair/curtain के पीछे bed के नीचे छुपकर mobile का प्रयोग करते  है.

इसीलिए माता पिता Educational content दिखाने के लिए TV/LED का ही प्रयोग करे.

प्रेरणादायक कहानियाँ (Inspirational Stories) व उदाहरण 

जब भी बच्चे के साथ समय बिताये, आप बच्चे को प्रेरणादायक कहानी सुनाओ, जिससे बच्चे में  सकरात्मकता (positivity) का विकास होगा। उसके साथ  डॉक्टर, वकील, टीचर, इंजीनियर, पायलट आदि बनने के लिए उनके द्वारा की जाने वाली मेहनत के बारे में चर्चा करें. जिससे बच्चे प्रेरित हो.रात को सुलाते समय भी बच्चे के साथ ऐसी बातें करें जिससे बच्चे को  प्रेरणा मिल सके. 

निष्कर्ष (Conclusion)

माता पिता  के हाथो में ही अपने  2-5 साल के बच्चें को सुधारना और बिगाड़ना होता है. पहले माता पिता को  अपने अंदर धैर्य (patience) रखना है. आप  जैसा व्यवहार अपने , बच्चे के साथ करेंगे बच्चा भी वैसा ही व्यवहार करेंगा। क्योंकि बच्चा अपना ज्यादा समय अपने  माता  पिता के साथ ही बिताता है.

इसीलिए सबसे ज्यादा माता पिता ही अपने बच्चेको  सीखा सकते है. इस आर्टिकल में बताई गयी छोटी छोटी बातो को ध्यान में रखते हुए माता पिता 2 -5 साल के बच्चों को Smartly Handle कर  सकते है. अपने बच्चे की पढाई में अच्छा योगदान दे सकते है जिससे बच्चा पढाई को बोझ न मानते हुए उसको  Enjoy करें।

Feedback व Suggestions

आपको ये आर्टिकल कैसे लगा, comment box में अपना feedback व भी प्रकार के समस्या के हल के लिए आप comment box में अपना प्रश्न भी लिख सकते है. Email Id : shakuntlablogger21@gmail.com  में भी अपने प्रश्न भेज सकते है.

सीरीज के बारे में जानकारी

“2 -5 साल के बच्चों को पढ़ाई के लिए कैसे तैयार करें” सीरीज के अलग-अलग भागो में बच्चों को सिखाने में माता-पिता की भूमिका के बारे में सारी जानकारी दी जाएगी। इस सीरीज के भाग -1  के तहत “माता-पिता के जानने योग्य जरूरी बातें” आर्टिकल शेयर किया गया है। उसे पढ़ने के लिए लिंक पर क्लिक करे।

Online Personal Guidance Program को जानने के लिए क्लिक करे 

अपने बच्चे के लिए online personal guidance program को Join करने के लिए Click On WhatsApp Link TypeJoin OPGP” & send it.


इसे भी पढ़िए :

Online Personal Guidance Program For Pre-Primary Education (2-5 Years)

माता-पिता के जानने योग्य जरूरी बातें

बच्चों को मोबाइल / टीवी दिखाए बिना खाना कैसे खिलाये?

बच्चों के मन में टीचर का डर

जीवन में नैतिक मूल्य का महत्व Importance of Moral Values

आध्यात्मिक कहानियाँ (Spiritual Stories)

प्रेरणादायक कहानी (Insipirational Stories)

यह भी कट जाएगा : प्रेरणादायक कहानी

ईश्वर है या नहीं ? भक्त और भगवान का अटूट रिश्ता

Purchase Best & Affordable Discounted Toys From Amazon

Discounted Kitchen & Home Appliances on Amazon

प्रेरणादायक कहानी

Mrs. Shakuntla

MrsShakuntla M.A.(English) B.Ed, Diploma in Fabric Painting, Hotel Management. संस्था Art of Living के सत्संग कार्यकर्मो में भजन गाती हूँ। शिक्षा के क्षेत्र में 20 वर्ष के तजुर्बे व् ज्ञान से माता पिता, बच्चों की समस्यायों को हल करने में समाज को अपना योगदान दे संकू इसलिए यह वेबसाइट बनाई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.